Wednesday, December 7, 2011

Hindi Poem on Terrorism

Dear Readers.

Here I present my FIRST POEM. I wrote this poem when I was 15 year old or so.

And coincidentally this is the only PUBLISHED Poem written by me. The poem has been published in Navchetan English Medium School 10th year completion special edition magazine. I have been to this school right from Lower Kindergarten to High School.

The Poem is written in Hindi (India's National Language and my Mother Tongue) and is dedicated to all Terrorists across the globe. Synopsis for English Readers at the end. I will like to translate this Poem in English in Future and in-case I will update this post.

And here it goes....

हाय रे आतंक यह केसा है तू 


9/11 Terror attack on WTC

हाय  रे  आतंक  यह  केसा  है  तू 
ना  खुद  ही  चैन  से  जी  सकता  है,
ना  ही  अपने  परिवार  वालो  को  जीने  दे  सकता  है 
जिस  जहा  में  तू  पनप  जाये ,
उसकी  रातो  की  नींद  उड़ा  दे 
जो  तुझे  पाले  वो  विकसित  न  हो  पाए 
हाय  रे  आतंक  यह  केसा  है  तू 

न  जाने  तुने  कितनी  जाने  ली  होंगी
कितनो  को  बेसहारा,  कितनो  को विधवा
और  न  जाने  कितनो  को  अनाथ  किया  होगा 
तुने  ही  बुजुर्गो  का  सहारा  छीना   है 
तुने  ही  उनकी  आँखों  का  तारा  छीना  है 
तुने  ही  उनके  बुदापे  का  सहारा  छीना  है 
हाय  रे  आतंक  यह  केसा  है  तू 

में  समाज  नहीं  पाता   भला  क्यों  लोग  आतंकवादी  बनते  है 
खाने  को  यदि  मिलता  नहीं  तो  मेहनत  क्यों  नहीं  करते  
मेहनत  से  जी  कतराता  है  तो  भीक  क्यों  नहीं  मांगते  
अगर  बीवी  के  लिए  सिन्दूर  नहीं  ला  सकते ,
तो  दुसरो  की  मांग  क्यों  उजड़ते  हों 
अगर  अपने  बचो  को  पाल  नहीं  सकते
तो  दुसरो  के  बचो  को  अनाथ  क्यों  बनाते  हों 
हाय  रे  आतंक  यह  केसा  है  तू 
26/11 Mumbai Terror Attack

आतंक  तेरा  मकशाद  क्या  है  यह  में समाज  न  पाया 
तू  क्यों  दुनिया  को  डरता,  यह  में  जान  न  पाया 
क्या  तुम्हे  इतना  नहीं  समाज आता,
की  यह  दुनिया  तुम्हारी  भी  है,
तुमने  भी  इस  धरती  से  जनम  लिया  है 
यह  जो  तेरी  काया  है यह धरती ने  ही  तुहे  दी  है 
तोह  इस  नाते तू  जान  ले  की  हर  पृथ्वीवासी  तेरा  भाई  है 

हमारी  लड़ाई  आतंकवादियों  से  नहीं,  बल्कि  आतंकवाद  से  है 
हम  आतंकवादियों  को  नहीं,
आतंक  और  आतंकवाद  को  ख़तम  करना  चाहते  है 
आखिर  हर  आतंकवादी  है  तोह  इंसान  ही,
लेकिन  भर  दी  गई  है  उसके  मन  में  नफरत  मानव  की,
मानवता से,  राष्ट्र  की  राष्ट्रीय  एकता  से 

तो  सुन  लो हर  आतंकवादी,  उग्रवादी  और  अलगओंवादी 
छोड़  दे  उसका  साथ  जिसने  तेरे,
हाथ  से  खेती  का  हल  छीन  कर ,
आतंकवाद  का  दलदल  दिया 
थान  ले  की  आतंकवाद  छोड़  कर,
तू  मुख्यधारा  में  मिलेगा ,
लोगो  का  विश्वास  जीत  जन  की  सेवा  करेगा 

नवनीत सिंह चौहान 


SYNOPSIS:

The poem is directly addressed to terrorists as if the narrator is standing in-front of them and wondering why they became terrorists? Why they are against humanity? and how they are still associated to humanity and shows them the way to leave the path of terrorism and return back to humanity.

If  even a single Terrorist gets inspired and comes back to the path of Humanity, that would be the biggest honor for this poem. I wish Humanity prevails and Terrorism and other inhuman things come to an end.

Best Regards,
Navneet Singh Chauhan.

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Share